चिकित्सक व कर्मचारियों द्वारा दुर्व्यवहार के बाद पीड़ित न्याय के लिए थाने पहुंचा

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

0 दोनों पक्ष की जांच के बाद होगी उचित कार्रवाई : थाना प्रभारी

0 सदर ब्लाक प्रमुख के नेतृत्व में थाने पहुंचे पीड़ित ने लगाई गुहार

सोनभद्र। प्रतिनिधि को नहीं मिला न्याय तो थाने पहुंचे सदर ब्लाक प्रमुख मामले में दोनों पक्ष की जांच कर कार्रवाई करने का थाना प्रभारी ने दिलाया भरोसा।
सदर ब्लाक प्रमुख अजीत रावत ने बताया कि क्षेत्र पंचायत सदस्य के साथ जिला अस्पताल में पूर्व में हुए चिकित्सक व कर्मचारियों द्वारा दुर्व्यवहार के बाद पीड़ित क्षेत्र पंचायत सदस्य को न्याय न मिलने को लेकर थाने पहुंचकर मामले में मामला दर्ज कर उचित कार्रवाई करने को थाना प्रभारी से वार्ता की गई।
वही पीड़ित राममरोस मुसहर पुत्र बूद्धिराम निवासी ग्राम मुसहीं, पूर्वक अवगत कराना है कि प्रार्थी पता उपरोक्त का निवासी है तथा अनुसूचित जाति का मुसहर व्यक्ति है। बीते 06.06.2024 को मेरी पत्नी की अचानक तबियत खराब हो गयी। जिसके दवा ईलाज हेतु प्रार्थी ने उसे जिला चिकित्सालय लोढ़ी जनपद सोनभद्र में भर्ती कराया। घटना दिनांक 07.06.2024 को दिन में 11:00 बजे की है कि प्राथी की पत्नी का चिकित्सालय प्रपत्र (बी०एस०टी०) नहीं मिल पा रहा था जिसके कारण मेरी पत्नी को दवा ईलाज आदि में काफी बिलम्ब हो रहा था। इस दरम्यान प्राथी ने अपनी पत्नी के दवा-ईलाज हेतु डयूटी पर तैनात चिकित्सक नाम व पता अज्ञात से काफी अनुनय-विनय किया बावजूद इसके सम्बन्धित चिकित्सक महोदय प्रार्थी की विनती पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। इस दरम्यान अन्य मरीजों को दवा-ईलाज उनके द्वारा किया जा रहा था। चिकित्सक महोदय की इस उपेक्षात्मक रवैये से मैं काफी क्षुब्ध हो गया और उक्त चिकित्सक को दबाव देकर अपनी पत्नी का दवा ईलाज करने को कहा इस पर चिकित्सक आग-बबूला हो गये और प्रार्थी को जाति सूचक शब्दो के साथ मों-बहन की भद्दी-भद्दी गालियां देते हुए कहें कि भोसड़ी वाले, माधरचोद, मुसहर जाति के नीच आदमी तुमको अच्छा ईलाज चाहिए था तो प्राइवेट अस्पताल में जाते यहां ऐसा ही होता है। प्रार्थी ने उक्त चिकित्सक से गालियां न देने को कहा इस पर उक्त चिकित्सक प्रार्थी को मारते-पीटते हुए जनरल वार्ड से इमरजेंसी वार्ड तक ले गये और अस्पताल के अन्य चिकित्साकर्मी भी मारने-पीटने लगे जिसमे प्रार्थी को कई जगह चोटें आई है। अस्पताल में मौजुद मरीजों के परिजनों ने बीच-बचाव कीया तब प्रार्थी की जान बच पायी। इसके बाद उक्त चिकित्सक प्रार्थी को धमकी दिये कि दोबारा यहां दिखे तो जान से मार दिये जाओगे। मौके पर परिसर में मौजूद चौकी पुलिस आयी और प्रार्थी से लिखित प्रार्थना पत्र प्रस्तुत करने को कहा लिहाजा प्रार्थी श्रीमान् जी के समक्ष प्रार्थना पत्र प्रस्तुत कर रहा है। ऐसी दशा में प्रार्थी का मेडिकल मुआयना कराते हुए प्रकरण में आवश्यक कानूनी कार्यवाही किया जाना आवश्यक एवं न्यायसंगत है। वही इस संदर्भ में थाना प्रभारी सत्येंद्र राय ने बताया कि दोनों पक्ष को बुलाया गया था जिसमें एक पक्ष की उपस्थिति नहीं हो पाई हालांकि दोनों पक्ष के जांच पड़ताल के बाद संबंधित कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Comment