बिजौली गांव के लोग पानी भरे गड्ढे युक्त सडक से होकर जाते है गाँव के बाहर

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

अमित मिश्रा

0- नगर पालिका से सटे गांव बिजौली के ताल में भी लोगों के आवागमन में हो रही परेशानिया- आशु

0- गड्ढा मुक्त सड़क की बात करते हैं पर लोगों के रोजाना आवागमन की भी मार्ग सही नहीं

0- स्कूल जाने से लेकर अस्पताल जाने तक में करनी पड़ रही है कठिनाइयों का सामना

सोनभद्र। रविवार को राबर्ट्सगंज विधानसभा के बिजौली गांव में उसके ताल क्षेत्र जो नगर पालिका से सटा हुआ है मात्र 500 से 800 मीटर पर नगरपालिका राबर्ट्सगंज का बॉर्डर भी है, वहां पर स्थानीय लोगों ने कहा की बच्चों का स्कूल खुलने वाला है और बरसात का भी मौसम आ गया है अभी बरसात में हम लोग को रोजाना चलने, आने-जाने में तमाम कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है बच्चों को स्कूल छोड़ने जाने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है लेकिन किसी को भी इस विषय पर ध्यान नहीं देना है ना तो स्थानिय प्रशासन और न ही जनप्रतिनिधि इस पर ध्यान दे रहे हैं। उक्त विषय पर उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य आशुतोष कुमार दुबे (आशु) ने कहा कि केवल खोखले वादों पर चल रही है सरकार लोगों को केवल जुमले दे रही है, यहां पर गड्ढा मुक्त की बात लगातार हो रही है वहीं जिले के एक मात्र नगर पालिका से सटे गांव में भी लोगों के आवागमन की व्यवस्था नहीं है, बरसात में आलम ये हो जाता है कि लोग 500-600 मी0 साइकिल कंधे पर रख सड़क तक जाते हैं, बच्चों को स्कूल छोड़ने में दिक्कत होती है, कोई बीमार पड़ जाता है तो एंबुलेंस सड़क पर रह जाती है लोग यहां से मरीज को खटिया पर लिटा के कंधे पर लेकर जाते हैं, यह बातें वहां के स्थानीय लोगों ने कहा, अब इस पर जिला प्रशासन या जन् प्रतिनिधि किसकी कमी माने। स्थानीय निवासी
स्थानीय निवासी मोनी मौर्य ने बोला कि अभी बच्चों का स्कूल खुलने वाला है बरसात में बच्चों को स्कूल ले जाने में ले आने में तमाम परेशानियां होती हैं इतना कीचड़ हो जाता है कि बच्चे चल नही पाते हैं, गिर जाते हैं, कपड़ा खराब हो जाता है, साइकिल कंधे पर लेकर साइकिल वाले जाते हैं।
स्थानीय निवासी विद्यावती देवी ने बोला कि अगर किसी की तबीयत खराब हो जाए तो अस्पताल ले जाने में भी तमाम समस्याएं होती हैं एंबुलेंस यहां से 500 मीटर – 800 मीटर दूर खड़ी रहती है मरीज को खटिया पर लिटाकर उसको कंधे पर ले कर बहुत परेशानी से ले जाते हैं इस पर किसी भी अधिकारी और लोगों का ध्यान नहीं है हम लोग इस तरह की परेशानियों से लगातार जूझ रहे हैं।स्थानीय निवासी अमरनाथ जी ने बोला कि हम लोग पहले भी इसको लेकर स्थानीय जन – प्रतिनिधियों से भी बात कर चुके हैं और अधिकारियों के पास भी बातें पहुंची लेकिन लोग मौन है, इस पर किसी का ध्यान नहीं है । स्थानीय निवासी दिलीप केसरी ने बोला कि जो लोग रोजगार के लिए जाते हैं काम के लिए जाते हैं बाइक वगैरह भी ठीक से नहीं चल पाती बरसात के दिनों में अक्सर गाड़ियां गिर जाती हैं चोट लगती है ये परेशानी का सबक बना हुआ है। कार्यक्रम मुख्य रूप से प्रसिद्ध रहने वालों में श्रीकांत मिश्रा, युवा नेता अंशु मद्धेशिया,
मुकेश, गुड्डी देवी, विमल देवी, गुलाब, पूजा देवी, सुधा देवी, शांति देवी, बबुन्दर, संगीता देवी, खुशी, सुरेंद्र कुमार, सोनू, राजकुमार, गिरजा शंकर, विमल कुमार, विनीत कुमार, रहे।

Leave a Comment