इफको नैनो यूरिया प्लस और नैनो डीएपी का किया गया परीक्षण

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

राकेश कुमार

भदोही। जनपद में विकास खण्ड औराई के ग्राम धुंधाव के प्रगतिशील किसान श्यामधर सिंह के खेत में धान की जड़ को इफको नैनो डीएपी 5 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी में मिलाकर शोधित किया गया एवं 20 से 30 मिनट तक घोल में रखकर रोपाई कर दी गई । इस दौरान गांव के प्रगतिशील किसान सुरेश सिंह, हीरालाल यादव, दिनेश सिंह, सुरेश , उमेश , ताराशंकर एवं भरतपुर समिति के सचिव बनवारी लाल भी उपस्थित रहे। इसके साथ ही सभी किसान भाईयों को इफको नैनो यूरिया प्लस एवं नैनो डीएपी की प्रयोग विधि के बारे में विस्तृत जानकारी इफको क्षेत्रीय अधिकारी विमल कुमार जायसवाल द्वारा दी गयी एवं अधिक से अधिक नैनो उर्वरकों के उपयोग के लिए प्रोत्साहित किया गया ।


जनपद में सभी किसान भाई धान की जड़ को इफको नैनो डीएपी से 5 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी में मिलाकर शोधन करे इससे जड़ क्षेत्र का अधिक विकास होता है एवं जब 25 दिन की फसल हो जाए तो नैनो डीएपी का एक छिड़काव जरूर करे और खेत में दानेदार डीएपी की मात्रा आधी प्रयोग करे इसी प्रकार नैनो यूरिया प्लस का प्रयोग पहली बार जब पत्तियां आ जाए कल्ले निकलते समय करे और दानेदार यूरिया की भी मात्रा आधी प्रयोग करे और नैनो यूरिया प्लस एवं नैनो डीएपी का प्रयोग एक साथ मिलाकर भी कर सकते है।

नैनो उर्वरकों के प्रयोग से जल, मृदा एवं पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचाया जा सकता है एवं भारत सरकार द्वारा दानेदार यूरिया एवं डीएपी पर दी जाने वाली भारी भरकम सब्सिडी का उपयोग कृषि के अन्य क्षेत्रों में किया जा सकता है ।


जनपद में इफको द्वारा अभी तक 3 ड्रोन उद्यमी को ड्रोन का प्रशिक्षण इफको फूलपुर में दिया गया है एवं किसानो के खेत में नैनो उर्वरकों के छिड़काव के लिए ड्रोन दिया गया है। सभी किसान भाई सहकारी समितियों एवं इफको बिक्री केंद्रों के माध्यम से ड्रोन उद्यमी से संपर्क करके या एप्लीकेशन इफको सहकर उड़ान के माध्यम से अपने फोन में डाउनलोड करके भी ड्रोन से छिड़काव के लिए सूचित कर सकते है ।

Leave a Comment