किराये के मकान में चल रहा था पीएचसी सेन्टर, सीएमओ के निरीक्षण में खामिया आयी सामने

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

डिलेवरी के लिए बेड , शौचालय और पानी की व्यवस्था मिली नदारत

ओबरा(सोनभद्र) । जनपद की चिकित्सा व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ अश्वनी कुमार द्वारा निरीक्षण किया जाता है। आज सीएसओ ने चोपन ब्लाक के नगरीय क्षेत्र ओबरा में स्थित अर्बन पीएचसी का निरीक्षण किया गया। प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डा० आलोक कुमार सहाय ओपीडी में अब तक 31 मरीज देख चुके थे वही संविदा स्टाफ नर्स उजाला एवं आकांक्षा उपस्थित रही। जबकि पशुपतिनाथ उपाध्याय, वार्ड ब्याय आकस्मिक अवकाश पर थे। फार्मासिस्ट हेमन्त कुमार शर्मा भी कार्य पर उपस्थित थे। पीएचसी पर तैनात सपोर्टिंग स्टाफ मथुरा बिना किसी सूचना के अनुपस्थित थी, जिनके वेतन रोकने के निर्देश प्रभारी चिकित्साधिकारी को दिये गये जबकि  संविदा एएनएम पूजा सिंह आकस्मिक अवकाश पर थीं।

निरीक्षण में प्रभारी चिकित्सक द्वारा बताया गया कि इस केन्द्र पर पानी की व्यवस्था नहीं और शौचालय जाम है, जिसके कारण यहां डिलीवरी का कार्य बाधित है। मरीज भर्ती के लिए कोई बेड नही है। इस  किराये के भवन चयन में उक्त समय मानक का ध्यान नही दिया गया जिसके कारण डिलीवरी का कार्य बाधित है और इसी कारण से चयनित स्टाफ नर्स और एएनएम की उपयोगिता नहीं हो रही है। इस सम्बंध में अर्बन कोआर्डिनेटर राकेश कुमार से स्पष्टीकरण लेने का निर्देश दिया गया और निर्देशीत किया गया कि किराये के नये भवन का चयन करते हुए, उक्त भवन मालिक के साथ हुये अनुबंध को निरस्त करें।

सीएमओ ने अर्बन पीएचसी ओबरा के अन्तर्गत सेक्टर 09 में स्थित आयुष्मान आरोग्य मंदिर उपकेन्द्र पर संचालित वीएचएसएनडी सत्र का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण में पाया गया कि उक्त केन्द्र की ब्रांडिंग का कार्य अभी तक नहीं किया गया है जबकि वहां एएनएम और सीएचओ दोनों पद पर कर्मचारी तैनात हैं। ब्रांडिंग के कार्य को पूर्ण कराने के लिए सम्बंधित को सख्त निर्देश दिये गये।

  जिला कार्यक्रम प्रबंधक को भी उक्त कार्य को पूर्ण कराने के निर्देश दिये गए। सत्र में एएनएम साधना सिंह एवं मनीषा गौतम तथा सीएचओ निशा साहू ड्यूटी पर तैनात मिली। सीएचओ द्वारा अब तक 76 मरीजों का सिकिल सेल एनीमिया के लिए स्क्रीनिंग की जा चुकी थी। 20 बच्चों एवं 02 गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण किया जा चुका था। लाजिस्टिक में छाया और ईजी पिल्स उपलब्ध नहीं थे जिसके लिए ए०एन०एम० को चेतावनी देते हुए निर्देशित किया कि भविष्य में वीएचएसएनडी सत्र के पूर्व समस्त लाजिस्टक की उपलब्धता सुनिश्चित कर लिया जाय।

निरीक्षण में आगनबाड़ी कार्यकत्री कंचन गुप्ता तैनात मिली लेकिन उनके पास वजन मशीन एवं बच्चों की ऊंचाई नापने के उपकरण उपलब्ध नहीं थे। इसकी जानकारी ली गयी तो बताया गया कि मशीन खराब है और जिसकी सूचना सीडीपीओ को दी जा चुकी है। इस सम्बंध में सीडीपीओ के स्तर से कार्यवाही अपेक्षित है। इस उपकेन्द्र पर भी पानी की सुविधा एवं शौचालय उपलब्ध नहीं थी, जिसके कारण नियमित डिलीवरी का कार्य नहीं हो पाता। इस सम्बंध में अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा० प्रेमनाथ को निर्देशित किया गया कि चूंकि यह भवन ओबरा पावर प्रोजेक्ट द्वारा उपलब्ध कराया गया है इसलिए इस सम्बंध में वहां के समुचित प्रभारी से सम्पर्क करते हुए पानी एवं शौचालय की व्यवस्था ठीक कराना सुनिश्चित करें।

इसके बाद सीएमओ गीता मंदिर पर आयोजित वीएचएसएनडी सत्र का निरीक्षण किया गया। एएनएम रुबीना द्वारा टीकाकरण का कार्य किया जा रहा था। वही लिस्ट में से 22 बच्चे व 06 गर्भवती महिलायें चिन्हित थी जिसके सापेक्ष 13 बच्चों एवं 06 गर्भवतियों का टीकाकरण किया जा चुका था। आशा ममता रानी उपस्थित थी और टीकाकरण में सहयोग कर रहीं थी आगनबाड़ी कार्यकत्री शीला देवी एवं पुष्ना देवी उपस्थित थीं परन्तु उनके द्वारा पोषण कार्नर नहीं बनाया गया था. जिसके लिए उन्हें सच्ता चेतावनी दी गयी। इस सम्बंध में सीडीपीओ के स्तर से कार्यवाही अपेक्षित है।

Leave a Comment

[democracy id="1"]