नेशनल इंटीग्रेटेड फोरम आफ आर्टिस्ट्स एंड एक्टिविस्ट्स की दो दिवसीय बैठक में शामिल हुए प्रयास संस्था के दिलीप दुबे

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

अमित मिश्रा

सोनभद्र(उत्तर प्रदेश)। सामाजिक व सांस्कृतिक गतिविधियों के क्षेत्र में सक्रिय संस्था नेशनल इंटीग्रेटेड फोरम आफ आर्टिस्ट्स एंड एक्टिविस्ट्स की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बीते शनिवार से दिल्ली में शुरू हुई। बैठक से पूर्व संस्था के प्रतिनिधिमंडल को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ।

बैठक में निफा उतर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष व हिंडालको इंडस्ट्रीज में कार्यरत रेणुकूट निवासी ,प्रयास एक मुहिम जिंदगी बचाने की रक्तदाता समूह के संस्थापक ,ब्लड,आई,ऑर्गन,डोनेशन के लिए अवेर्नेस मोटिवेशनल स्पीकर व रक्तदाता दिलीप दुबे ने भी राष्ट्रपति से मुलाकात किया। श्री दुबे अभी तक स्वयं 55 बार रक्तदान कर चुके है और अपने शरीर का सम्पूर्ण अंग दान का संकल्प पत्र भर चुके हैं। पिछले 9 सालों से सोनभद्र जिले में सर्वाधिक स्वैच्छिक रक्तदान कराते है जिससे थैलेसीमिया, केंसर,किडनी मरीज ,एक्सीडेंटल मरीज को कोई परेशानी न हो। 

निफा के संस्थापक अध्यक्ष प्रीतपाल सिंह पन्नु ने बताया कि राष्ट्रपति ने संस्था के अच्छे कार्यों की सराहना करते हुए उन्हें भारत की कला व संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए वृहद प्रयास करने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि देश की संस्कृति व ‘सांस्कृतिक विधाएं बहुत महान हैं। युवा पीढ़ी को इनकी जानकारी होनी बेहद आवश्यक है। उन्होंने एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत विभिन्न राज्यों व संस्कृतियों में सामंजस्य स्थापित करने का विशेष उल्लेख ‘किया। राष्ट्रपति ने लिंग समानता व लड़कियों के सम्मान और महिला सशक्तिकरण पर चर्चा में बताया कि आदिवासी समाज में लड़कियों के जन्म को शुभ मानकर खुशी मनाई जाती है। धीरे-धीरे भारत में बेटियों के प्रति समाज का नजरिया सकारात्मक हो रहा है।

राष्ट्रपति से मिलने गए प्रतिनिधि मंडल ने उन्हें संस्था द्वारा राष्ट्र निर्माण, रक्तदान, नेत्रदान, अंगदान व समाज की भलाई के लिए किये जा रहे कार्यों की भी जानकारी दी। नगर से गए निफा के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष दिलीप दुबे हिंडाल्को इंडस्ट्रीज में कार्य करते हैं, नौकरी के साथ-साथ वह सामाजिक कार्यों में भी सक्रिय रहते हैं। रक्तदान, अंगदान के साथ-साथ वह रेणुकूट नगर पंचायत में स्वच्छ भारत मिशन के तहत ब्रांड एंबेसडर भी रह चुके हैं उनके द्वारा बनाए गए प्रयास फाउंडेशन से अब तक हजारों लोग जुड़ चुके हैं और प्रतिवर्ष रक्तदान करते हैं।

Leave a Comment

[democracy id="1"]