चुनौतीपूर्ण समय मे एनसीएल ने किया बेहतर प्रदर्शन:अनिल जैन

Share this post

सचिव व संयुक्त सचिव, कोयला मंत्रालय, भारत सरकार ने किया एनसीएल का दौरा

सचिव, कोयला मंत्रालय ने एनसीएल निगाही स्थित 50 मेगा वॉट के सोलर प्लांट का किया शिलान्यास

सिंगरौली। नार्दन कोलफील्ड्स के केंद्रीय सचिव,कोयला मंत्रालय डॉ. अनिल कुमार जैन और संयुक्त सचिव विस्मिता तेज ने एनसीएल मुख्यालय का दौरा किया। एनसीएल के मुख्यालय में शुक्रवार को डॉ. अनिल कुमार जैन को गार्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित किया गया ।

एनसीएल मुख्यालय में आयोजित समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कोयला सचिव डॉ अनिल कुमार जैन ने राष्ट्र की ऊर्जा जरूरत के अनुरूप उत्पादन को बढ़ाने और पर्यावरणीय व सतत तरीके से कोयला प्रेषण करने पर जोर दिया साथ ही बदलते ऊर्जा परिदृश्य के अनुरूप व्यावसायिक विविधता को अपनाने का आवाहन किया।

एनसीएल खदान का निरीक्षण करते केन्द्रीय टीम

इस दौरान उन्होंने चुनौतीपूर्ण समय में एनसीएल के प्रदर्शन की सराहना किया। इस बैठक के दौरान संयुक्त सचिव, कोयला मंत्रालय विस्मिता तेज, सीएमडी एनसीएल भोला सिंह, निदेशक(तकनीकी/परियोजना एवं योजना) एस एस सिन्हा, मुख्य सतर्कता अधिकारी अमित कुमार श्रीवास्तव व अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित रहे।

डॉ अनिल कुमार जैन ने निगाही परियोजना में एनसीएल की महत्वाकांक्षी परियोजना 50 मेगावाट के सौर ऊर्जा संयंत्र की आधारशिला रखी। यह सौर परियोजना 129.35 हेक्टेयर भूमि पर स्थापित की जा रही है। इस परियोजना से एक वर्ष में नवीकरणीय तरीके से लगभग 94 मिलियन यूनिट बिजली तैयार होगी और लगभग 78 हज़ार टन कार्बन डाइ ऑक्साइड के उत्सर्जन में कमी आएगी। वर्तमान समय में एनर्जी मिक्स में नवीकरणीय ऊर्जा के बढ़ते प्रभाव के दृष्टिगत एनसीएल का यह कदम बेहद अहम है। एनसीएल 273 मेगावाट नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादन कर नेट जेरो कंपनी बनने की दिशा में कार्य कर रही है।

निगाही खदान का किया निरीक्षण
डॉ जैन व श्रीमती विस्मिता तेज ने एनसीएल की निगाही परियोजना के व्यू प्वाईंट से खदान का अवलोकन करते हुए ड्रैगलाइन, शॉवेल-डंपर संयोजन व सर्फ़ेस माइनर की कार्य प्रणाली को देखा | इस दौरान एनसीएल आईआईटी बीएचयू इंक्यूबेशन सेंटर की टीम ने ड्रोन के माध्यम से अधिभार डम्प पर सीड बॉल का छिड़काव किया । इस तकनीकी का उपयोग प्रभावी डम्प पुनर्स्थापना के लिए किया जा रहा है ।

जयंत क्षेत्र में निर्माणाधीन सीएचपी परियोजना का कोयला सचिव डॉ. अनिल कुमार जैन और संयुक्त सचिव विस्मिता तेज ने जयंत में निर्माणाधीन एफएमसी परियोजना की प्रगति का जायजा लिया । अतिरिक्त 15 मिलियन टन वार्षिक क्षमता के इस सीएचपी-साइलो का निर्माणकार्य मार्च 2023 तक पूरा होने की उम्मीद है | वर्तमान में एनसीएल में सीएचपी की वार्षिक क्षमता 70 मिलियन टन हैl साथ ही अलग अलग परियोजनाओं में निर्माणाधीन सीएचपी व अन्य एफ़एमसी परियोजनाओं के पूरा होने पर वर्ष 2023-24 के अंत तक लगभग शत प्रतिशत उत्पादित कोयला पर्यावरण के अनुकूल और मशीनीकृत तरीकों से भेजा जा सकेगा।

गौरतलब है कि एनसीएल 9 फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी(एफ़एमसी) परियोजनाओं के निर्माण पर लगभग 3 हज़ार करोड़ से अधिक धनराशि का निवेश कर रही है । यह कंपनी के वर्ष 2023-24 में 130 मिलियन टन कोयला उत्पादन व प्रेषण का लक्ष्य पूरा करने में अहम भूमिका निभाएगा।

हितग्राहियों से की मुलाकात
डॉ जैन व श्रीमती तेज एनसीएल के प्रमुख कोयला उपभोक्ताओं जिनमें एनटीपीसी, यूपीआरवीएनएल, हिण्डाल्को, जेपीवीएन व अन्य के साथ भी रूबरू हुए एवं समन्वय के साथ राष्ट्र की ऊर्जा आकांक्षा पूरा करने का आह्वान किया।

Ravi pandey
Author: Ravi pandey

Related Posts

Live Corona Update

Advertisement

Advertisement

Weather

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Live Cricket Updates

Stock Market Overview

Our Visitors

0 0 5 7 8 0
Users Today : 21
Users This Month : 301
Total Users : 5780
Views Today : 38
Views This Month : 587
Total views : 12586

Radio Live