अपनी प्राचीन संस्कृति पर गर्व करने का महापर्व है अमृत महोत्सव

Share this post

अंग्रेजो के खिलाफ प्रथम बार विद्रोह का शंखनाद किया था आदिवासियों ने : दीपक कुमार केसरवानी

-आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत वक्ताओं ने किया विचार व्यक्त

स्व की अवधारणा को जन-जन तक पहुंचाने का लिया गया संकल्प

चंद्रगुप्त मौर्य इंटर कॉलेज मधुपुर के प्रांगण में हुआ उद्घाटन समारोह।

भारत माता की उतारी गई आरती एवं निकाला गया तिरंगा यात्रा।

मधुपुर( सोनभद्र)। भारत के स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत ब्लॉक करमा का उद्घाटन समारोह चंद्रगुप्त मौर्य इंटर कॉलेज मधुपुर के प्रांगण में हर्ष उल्लास के साथ आयोजित हुआ।
इस अवसर पर मुख्य वक्ता विंध्य संस्कृति शोध समिति उत्तर प्रदेश ट्रस्ट के निदेशक, वरिष्ठ पत्रकार/इतिहासकार दीपक कुमार केसरवानी ने स्वाधीनता आंदोलन में आदिवासियों का योगदान विषय पर अपना विचार व्यक्त करते हुए कहा कि-“आजादी के दीवानों ने भारत माता को अंग्रेजी दासता से मुक्ति का सपना स्व के पुनरुत्थान के माध्यम से देखा था, जिसके अभाव में हमारे देश गुलाम हुआ और देशवासियों को राजनैतिक, आर्थिक, धार्मिक, सांस्कृतिक, सामाजिक प्रताड़ना का शिकार होना पड़ा।
स्व की अवधारणाओं आगे बढ़ाते हुए आज से 264 वर्ष पूर्व इन आदिवासी नायको, महानायको क्रांतिवीरों ने ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ प्रथम बार हथियारबंद आंदोलन किया। जो आधुनिक इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटना थी,इनके त्याग, तपस्या, बलिदान की गौरव गाथाएं आज भले इतिहास के पाठ्य पुस्तकों में दर्ज न हो,लेकिन भारतीय लोक में इनकी लोक गाथाएं आज भी कहीं और सुनी जाती है।

भारत की हृदय स्थली उत्तर प्रदेश के अंतिम छोर पर अवस्थित वर्तमान सोनभद्र जनपद आदिवासी बाहुल्या राज्य, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में आदिवासियों द्वारा ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ स्वतंत्रता आंदोलन का शंखनाद किया गया उसकी गूंज सोनभद्र जनपद के आदिवासी अंचलों में पहुंची । जिसके परिणाम स्वरूप जनपद के सेनानियों ने भी स्वतंत्रता आंदोलन में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और 15 अगस्त 1947 को हमें इन क्रांतिकारियों के बल पर आजादी प्राप्त हुई।
कार्यक्रम में वक्ता के रूप में अपना विचार व्यक्त करते हुए सोन साहित्य संगम के संयोजक, अधिवक्ता, बार काउंसिल उत्तर प्रदेश के मनोनीत सदस्य राकेश शरण मिश्र ने कहा कि-“स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के त्याग, तपस्या, और बलिदान के कारण आज हम आजाद हैं और आजाद भारत का अमृत महोत्सव मनाने के लिए यहां पर उपस्थित हुए हैं, आंदोलन में सरदार भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, सुभाष चंद्र बोस, उधम सिंह, राम प्रसाद बिस्मिल, आदि क्रांतिकारियों के बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता उनके विचारों को भावी पीढ़ियों तक पहुंचाना एवं स्व का एहसास जन-जन को कराना अमृत महोत्सव वर्ष का लक्ष्य है, बावजूद इसके आज भी भारत में ब्रिटिश कालीन नियम, कानून व्यवस्था हमें कानूनी, मानसिक, सामाजिक गुलामी का एहसास कराती है

समाजसेवी हरिदास खत्री ने अपना विचार व्यक्त करते हुए कहा कि-” हमारा देश अखंड रहा है, लेकिन ब्रिटिश कालीन इतिहासकारों द्वारा लिखे गए इतिहास में हमारे भारत को खंडित दिखाने का प्रयास किया गया और इस प्रयास में वे सफल रहे लेकिन आज आजादी के 75 वर्ष बाद हमारे देश के नागरिकों में स्वाभिमान जगाने के लिए अमृत महोत्सव का आयोजन सराहनीय है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए वरिष्ठ पत्रकार एवं मीडिया फोरम ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय संयोजक मिथिलेश प्रसाद द्विवेदी ने अपना विचार व्यक्त करते हुए कहा कि-” देश में स्वाधीनता की लड़ाई विविध ढंग से लड़ी गई, क्रांतिकारियों, देशभक्तों ने जहां एक ओर ब्रिटिश साम्राज्य का विरोध करके गोलियां, लाठियां खाकर लड़ाई लड़ी,वही कलमकारो, साहित्यकारों, कवियों ने अपने साहित्य, पत्रकारिता के माध्यम से ब्रिटिश हुकूमत का विरोध किया तब जाकर हमें 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली।
हमारा यह प्रयास होना चाहिए कि हम जन-जन में अपने साधनों, विचारों के माध्यम से अखंडता का दीप जलाएं।
जिला पंचायत सदस्य एवं कर्मा ब्लाक प्रमुख ने भी मातृ शक्ति के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए अपना विचार व्यक्त किया।
कार्यक्रम का सफल संचालन समाजसेवी दिनेश सिंह ने किया।
शिक्षक रामविलास द्वारा देशभक्ति गीत एवं ग्रामोदय शिशु मंदिर बाल शिक्षण संस्थान उच्च माध्यमिक विद्यालय बहुआर, बाल शिक्षण संस्थान के छात्राओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।

अमृत महोत्सव में सांसकृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करती छात्राएं

कार्यक्रम के आयोजक भूपेंद्र, राजीव, जितेंद्र, उमाशंकर प्रसाद, संतोष, आत्मानंद सहित अन्य लोगों द्वारा अतिथियों को माल्यार्पण कर उनका स्वागत सम्मान किया गया।
कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलन एवं भारत माता की आरती के साथ कार्यक्रम संपन्न हुआ।
तत्पश्चात तिरंगा यात्रा निकाला गया और यह यात्रा मधुपुर नगर के विभिन्न मोहल्लों, गलियों से गुजरते हुए आयोजन स्थल पर पहुंचा।
इस यात्रा में समाजसेवी रमेश मिश्रा, ओम प्रकाश दुबे, अशोक मौर्य, उदयनाथ सिंह, ज्ञानेंद्र शरण राय, पत्रकार हर्षवर्धन केसरवानी सहित नगर के स्वयंसेवी संगठनो, शिक्षण संस्थानों सहित आम नागरिकों ने बड़े ही जोश खरोश के साथ भारत माता की जय, वंदे मातरम का नारा लगाते हुए तिरंगा यात्रा में भाग लिया।

Ravi pandey
Author: Ravi pandey

Related Posts

Live Corona Update

Advertisement

Advertisement

Weather

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Live Cricket Updates

Stock Market Overview

Our Visitors

0 0 3 4 0 7
Users Today : 4
Users This Month : 371
Total Users : 3407
Views Today : 6
Views This Month : 620
Total views : 7674

Radio Live