हेलो किड्स के बच्चो ने रंगारंग कार्यक्रम के साथ दीपावली किया सेलिब्रेट

Share this post


हेलो किड्स के बच्चो ने इको फ्रेन्डली दीपावली मनाने का लिया संकल्प

लघु नाटक कर दिये जलाओ पटाखे नही का दिया संदेष

ओबरा(सोनभद्र)। दीपावली पर पटाखे जलाने पर होने वाले प्रदुशण से बचने के लिये बच्चो ने दिये जलाओ पटाखे नही पर लघु नाटक प्रस्तुत किया। श्रेयाषं यादव, आहिल खान, सन्नी यादव ,दर्ष चौधरी, जुहैब व अहान ने लघु नाटक प्रस्तुत कर दीपावली पर होने वाले प्रदुशण पर लोगो को आगाह किया साथ ही दीपावली पर बिना पटाखो के ही इको फ्रेडली पर्व मानने का संकल्प लिया। दीपावली पर दिये जलाओ पटाखे नही का संदेष दिया। पीहू अग्रवाल, सोहम अग्रवाल, कान्हा गुप्ता, आयत, ऋशभ,अरषद, आयत, अराध्या, रौनक, आयान आदि ने चक दे इण्डिया गीत पर नृत्य प्रस्तुत कर वाह वाही लूटी। अनमोल अग्रवाल, अभयुक्त अग्रवाल, माहिरा, अनम, अहिल अली, सिया मिश्रा, सीबी मिश्रा, संचित प्रकाष, हर्श दीपक, आरभ गोयल, अभी यादव, अमन यादव, आरव यादव, अभी सिंह, षिवांस विष्वकर्मा आदि ने डिस्को दीवाने पर नृत्य प्रस्तुत कर तालियां बजाने पर मजबूर कर दिया। अन्त में बच्चो में फूलो की रंगोली व दिये जलाकर दिपावली सेलिब्रेट किया। षिक्षिका बाबी राय व स्मृति श्रीवास्तव ने बच्चो को बताया कि दीपावली पर भारी मात्रा में पटाखा जलाने से पर्यावरण में प्रदुशण का स्तर काफी बढ जाता है इस लिये हमें दीपावली पर पटाखे जलाने के बजाय रंगोली व दिये जला कर इको फ्रेडली दीपावली मनाना चाहिये। षिक्षिका आरती ने कहा कि सोनभद्र में सामान्य परिस्थितियों में भी प्रदुशण का स्तर खतरनाक स्तर पर है इसलिये हमें लोगो के स्वास्थ्य का ध्यान रखते इस दीपावली पर प्रदुशण रहित दीपावली मनानी चाहिये। प्रधानाचार्य नाहिद खान ने कहा कि एक तरफ हम स्वच्छ भारत मिषन को अमल में लाने की बात करते है वही दुसरी ओर हम पटाखो को फोड कर हम वातावरण को प्रदुशित कर रहे है। कई हजार टन पटाखो का कूडा हम दीपावली के दिन देष भर में फैला देते है। यह पटाखो का जहरीला कूडा जब जमीन में धंस जाता है तो मिट्टी प्रदुशित हो जाता है और जलने के बाद धुआ से वायु व फूटने के बाद ध्वनि प्रदूशण होता है। वही जब जला हुआ जहरीला कूडा जब नदियों में जाता है तो जल प्रदूशण फैलाता है। पटाखो का प्रयोग सबसे ज्यादा बच्चे ही करते है इस लिये सबसे ज्यादा असर बच्चो पर ही पडता है। बाद में यही पटाखे कई प्रकार के इंफेक्षन व बिमारियो के कारण बनते है। श्रीमती खान ने कहा कि हम पटाखों की बजाए बलून या रंगीन कागज के गुब्बारों से बच्चों को खेलना सिखाएं। वे इन्हें फुलाकर एक दूसरे के साथ फोड़कर मजे कर सकते हैं. यह एक क्रिएटिव और मजेदार तरीका हो सकता है।

खुशियों को सेलिब्रेट करने के लिए लोग घरों में अल्पना, रंगोली बनाते हैं, लाइटिंग करते हैं, नए कपड़े पहनकर पूजा पाठ करते हैं। वहीं शाम को मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है. दिवाली पर तोहफे देने की परंपरा भी होती है। आप लोगों को हैंडमेड गिफ्ट्स देकर दीपावली सेलिब्रेट करे।

Ravi pandey
Author: Ravi pandey

Related Posts

Live Corona Update

Advertisement

Advertisement

Weather

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Live Cricket Updates

Stock Market Overview

Our Visitors

0 0 3 3 8 7
Users Today : 9
Users This Month : 351
Total Users : 3387
Views Today : 17
Views This Month : 583
Total views : 7637

Radio Live